आँखों देखी
हैप्पी दिवाली

हैप्पी दिवाली

दिवाली जिस दिन भगवान श्री राम के वनवासी समय सिमा समाप्ति का दिन जब उनके लौटने पर स्वागत में प्रजा ने दीप जलाकर दीपावली या दिवाली मनाई। भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर का वध कर प्रजा को उसके आतंक से मुक्ति दिलाई प्रजा ने दीप जलाकर दीपावली मनाई ढेरो खुशियां घर-घर में बाटी गयी। समुन्द्र मंथन से जब माता धन्वंतरि देवी लक्ष्मी जी प्रकट हुई तो देवो ने दीप प्रज्वलन कर उनका स्वागत सत्कार किया हम और आप सभी इन पौराणिक कथाओं से भलीभांति वाकिफ है। निष्कर्ष यह है कि हर्ष व प्रफुल्लित मन अपने स्नेह का अनुमोदन दीप प्रज्वलन करने से प्रकट होता है, या ये कहे कि दीप प्रज्वलन करने से हर्ष की अनुभूति होती है।

लक्ष्मी ( काल्पनिक नाम)
लक्ष्मी ( काल्पनिक नाम)

ठीक उसी हर्ष की अनुभूति आज मुझे भी हुई दीप जलाकर और उससे भी अतिआवश्यक क्षण दीप खरीद कर तस्वीर में दिख रही छोटी लड़की बहुत चचंल व मन की साफ़ एक माँ के घर की धन्वंतरि लक्ष्मी जिसकी माँ सड़क के किनारे जमीन पर रुई और मिटटी के दीपक बेच रही थी। लक्ष्मी उप्पर चबूतरे पर बैठी हाथ में दफ़्ती का टुकड़ा और मिटटी का हाथी लिए उससे खेल रही थी। वो कभी दफ़्ती के उस टुकड़े से दूर कहि बैठे अपने पिता जी को फ़ोन लगाती तो कभी अपने मिटटी के हाथी को बताती की आज शाम को मिठाई खाने को मिलेगी ज्यादा मत खाना नहीं तो दातो में कीड़े लग जायेंगे

संजोग की बात थी उस वक़्त मेरे हाथ में मिठाई का एक छोटा डिब्बा था जो शाम की पूजा के लिए लिया था मैंने लक्ष्मी से पूछा मिठाई खानी है! उसने एक नज़र मुझे देखा फिर अपनी माँ को उसने माँ ने मेरी तरफ देखा मैंने डिब्बा खोलकर आगे बढ़ाया उसकी माँ ने मेरा हाथ रोक दिया फिर मेरे आग्रह करने पर लक्ष्मी ने एक टुकड़ा उठाया फिर एक और उठाया मैंने डिब्बा उसकी माँ के हाथ में देने की कोशिश की पर उन्होंने नहीं लिया। लक्ष्मी ने अपने लिए ली हुई मिठाई अपनी गोद में रखी और दूसरी मिठाई अपने मिटटी के हाथी को जबरदस्ती खिलाने लगी।

यकीन मानिये मैंने इससे अच्छी दीपावली आज तक नहीं मनाई चंचलता भावना आत्मसमर्पण सौहर्द और सच्चाई का प्रतीक यह पर्व लक्ष्मी और लक्ष्मी के हाथ में मिटटी का हाथी(गणेश) दोनों ने मेरे हाथो से भोग स्वीकार कर अपनी कृपा दृष्टि से मेरी दिवाली भी हैप्पी कर दी विराम देने के साथ ईश्वर से प्रार्थना है आप सभी पर ईश्वर अपनी कृपा दृष्टि बनाये रखे आप सभी पाठको को दीपवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।

इसको भी पढ़िए: मैं हूँ ना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *